Warning: mysql_fetch_object(): supplied argument is not a valid MySQL result resource in /home/bhavyamarkantak/public_html/libraries/joomla/database/driver/mysql.php on line 464

Warning: mysql_free_result() expects parameter 1 to be resource, boolean given in /home/bhavyamarkantak/public_html/libraries/joomla/database/driver/mysql.php on line 478
मुख्यपृष्ठ

भव्य अमरकंटक दर्शन

responsive jquery slider joomla

Deprecated: preg_replace(): The /e modifier is deprecated, use preg_replace_callback instead in /home/bhavyamarkantak/public_html/plugins/content/youtubeplugin/youtubeplugin.php on line 49

श्री कल्याण सेवा आश्रम अमरकंटक के द्वारा अमरकंटक परिदर्शन की प्रस्तुति

अमरकंटक मध्य प्रदेश के अनूपपुर ज़िले में स्थित है। अमरकंटक नर्मदा नदी, सोन नदी और जोहिला नदी का उद्गम स्थान है। यह हिंदुओं का पवित्र स्थल है। मैकल की पहाडि़यों में स्थित अमरकंटक मध्‍य प्रदेश के अनूपपुर जिले का लोकप्रिय हिन्‍दू तीर्थस्‍थल है। अमरकंटक पेंड्रा रोड  रेलवे स्टेशन से 35 मील दूर स्थित है। चारों ओर से टीक और महुआ के पेड़ो से घिरे अमरकंटक से ही नर्मदा और सोन नदी की उत्‍पत्ति होती है। नर्मदा नदी यहां से पश्चिम की तरफ और सोन नदी पूर्व दिशा में बहती है। यहां के खूबसूरत झरने, पवित्र तालाब, ऊंची पहाडि़यों और शांत वातावरण सैलानियों को मंत्रमुग्‍ध कर देते हैं। अमरकंटक पठार समुद्रतट से 2500 फ़ुट से 3500 फ़ुट तक ऊँचा है। नर्मदा का उदगम एक पर्वतकुण्ड में बताया जाता है। अमरकंटक को आम्रकूट भी कहते हैं। यह तीर्थ, श्राद्ध-स्थान और सिद्धक्षेत्र के रूप में प्रसिद्ध है। कहा जाता है कि भगवान शिव की पुत्री नर्मदा जीवनदायिनी नदी रूप में यहां से बहती है। श्रद्घालु इस मंदिर में आकर भगवान शिव और शक्ति स्वरूपा देवी नर्मदा का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। माता नर्मदा को समर्पित यहां अनेक मंदिर बने हुए हैं, जिन्‍हें दुर्गा की प्रतिमूर्ति माना जाता है। अमरकंटक बहुत से आयुर्वेदिक पौधों मे लिए भी प्रसिद्ध है, जिन्‍हें किंवदंतियों के अनुसार जीवनदायी गुणों से भरपूर माना जाता है। अमरकंटक का बहुत सी परंपराओं और किवदंतियों से संबंध रहा है। अमरकंटक ऋक्षपर्वत का एक भाग है, जो पुराणों में वर्णित सप्तकुलपर्वतों में से एक है। अमरकंटक दुर्वासा सहित कई ऋषियों की तपस्थली रही है। प्रकृति प्रेमी और धार्मिक प्रवृत्ति के लोगों को यह स्‍थान काफी पसंद आता है। अमरकंटक का मनोरम दृश्य आपको इतना आकर्षित करेगा कि आप चाहेंगे कि कुछ दिन तीर्थयात्रा के साथ प्रकृति की गोद में बिताने के लिए अमरकंटक चलें।

मुख्य आकर्षण स्थल -

यहाँ अनेक रमणीय स्थल है जिनमे नर्मदाकुंड और मंदिर, धुनी पानी, दूधधारा, कलचुरी काल के मंदिर, सोनमुडा, मां की बगिया, कपिलधारा, कबीर चबूतरा,सर्वोदय जैन मंदिर, श्री ज्‍वालेश्‍वर महादेव मंदिर,अमरकंटक की औषधीय वनस्पतियाँ, भृगु कमंडल ,कपिलधारा ,चंडिका गुफा,चक्रतीर्थ, बहगड़नाला (श्री गणेश मंदिर) आदि |

अमरकंटक कैसे पहुचे :

वायु मार्ग- अमरकंटक का निकटतम एयरपोर्ट जबलपुर में है, जो लगभग 245 किलोमीटर की दूरी पर है।

रेल मार्ग- पेंड्रा रोड अमरकंटक का नजदीकी रेलवे स्‍टेशन है जो लगभग 35 किलोमीटर दूर है।

सड़क मार्ग- अमरकंटक मध्‍य प्रदेश और निकटवर्ती शहरों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। पेंड्रा रोड, बिलासपुर और शहडोल से यहां के लिए नियमित बसों की व्‍यवस्‍था है।

 

आगंतुको की संख्या


Strict Standards: Only variables should be assigned by reference in /home/bhavyamarkantak/public_html/modules/mod_jdvisitor/helper.php on line 16
2634